RATIONALIST INTERNATIONAL

http://www.rationalistinternational.net

द ग्रेट तंत्रा चेलेंज

३ मार्च २००८,एक लोकप्रिय टीवी शो में, एक तांत्रिक ने सनल एदमरुकू, जो रेश्नेलिस्ट इंटरनेशनल के अध्यक्ष हैं ,के ऊपर अपनी शक्ति प्रदर्शन करने की चुनौती दी | यह एक अनोखी चुनौती थी | अपने मंत्र तंत्र (जादुई शब्द) के जप के साथ इंडिया टीवी पर अंतिम " विनाश समारोह" में सनल एदमरुकू को मारने का फैसला किया | इस चुनौती को सनल एदमरुकू ने स्वीकार किया और काला जादू अनुष्ठान की वेदी में बैठे | यह कार्यक्रम इंडिया टीवी पर शुरू हुआ और कुछ ही देर में इस कार्यक्रम की व्यूअरशिप आसमान को छूने लगी |

इसकी शुरुआत कुछ इस तरह हुई | हाल में ही जब उमा भारती (मध्य प्रदेश राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री) ने एक सार्वजनिक बयान में अपने राजनीतिक विरोधियों पर आरोप लगाया कि उन्होंने तांत्रिक शक्तियों का उपयोग करके उन्हें नुकसान पहुँचाया है | जिसके कारण कुछ दिनों के भीतर,उनके चाचा की म्रत्यु हो गयी ,उनको कार से चोट लग गयी और कई शारीरिक परेशानियों का सामना करना पड़ा |

भारत के एक प्रमुख हिन्दी चैनल इंडिया टीवी ने "तांत्रिक शक्ति बनाम विज्ञान" पर एक परिचर्चा आयोजित की | जिसमे एक पक्ष के लिए सनल एदमरुकू को आमंत्रित किया और दूसरे पक्ष में पंडित सुरिंदर शर्मा, जो शीर्ष राजनेताओं के तांत्रिक होने का दावा करता है और कई टीवी शो के माध्यम से जाना जाता है | चर्चा के दौरान, तांत्रिक ने गेहूं के आटे से एक छोटा मानव आकृति का पुतला बनाया और इसके चारों और धागा बांध दिया | उन्होंने दावा किया कि वह किसी भी व्यक्ति के ऊपर काला जादू करके तीन मिनट के अन्दर मार सकता है | सनल ने उस चुनौती को स्वीकार किया |

तांत्रिक ने अपनी कोशिश शुरू की, उसने मंत्र बोले लेकिन उनका सनल पर कोई प्रभाव नहीं दिखा | तीन मिनट, पाँच मिनिट, इस तरह से समय बढ़ता गया और कार्यक्रम की लोकप्रियता को देखते हुए चैनल को अपने दूसरे कार्यक्रम रद् करने पड़े | लेकिन यह महान तंत्र चुनौती "ब्रेकिंग न्यूज" बन गया था

अब तांत्रिक ने अपनी तकनीक बदल दी | उसने सनल पर पानी का छिड़काव किया और उनके सामने एक चाकू ले कर आया फिर चाकू की ब्लेड को उनके सारे शरीर पर घुमाया ,लेकिन इस पर भी सनल बिलकुल डरे नहीं | कभी कभी वह सनल के सर को छूने लगता ,कभी उनके बालों को तितर बितर करने लगता , कभी अपना हाँथ उनकी आँखों के सामने ले कर आता तो कभी उनके माथे को दबाने लगता | इसी दौरान जब वह उन्हें तेजी से दबाने लगा तो सनल ने उसे याद दिलाया कि उसे शक्ति का प्रयोग नहीं काले जादू का प्रयोग करना है| अब तांत्रिक अपने सारे हथियार जैसे पानी, चाकू, ऊँगली, मन्त्र का उपयोग कर चुका था पर सनल पहले की तरह सहज दिख रहे थे |

लगभग दो घंटे के बाद, चैनल ने तांत्रिक की विफलता की घोषणा की | तांत्रिक हार स्वीकार करने को तैयार नहीं था, उसने एक और बहाना बनाया कि सनल जिस देवता कि पूजा करते हैं उसके प्रभाव से मेरी पूजा का उन पर असर नहीं हो रहा है | उनके भगवान् इतने शक्तिशाली हैं कि वो उन्हें बचा लेते हैं | इस पर सनल ने मुस्कराते हुए कहा -"मैं नास्तिक हूँ "| अंत में, तांत्रिक ने दावा किया कि ये काला जादू कभी भी नाकाम नहीं हो सकता ये अपना असर रात में ही दिखता है | पर ये उसका दुर्भाग्य था कि फिर भी वह अपनी चुनौती को साबित नहीं कर सका | किन्तु उसके इस दावे से टीवी पर ये कार्यक्रम "ब्रेकिंग न्यूज" बन गया |

अगले तीन घंटे के दौरान, इंडिया टीवी ने इस कार्यक्रम को "ग्रेट तंत्रा चैलेंज" घोषित किया, जिसे अरबों लोगों ने अपने टीवी सेट पर देखा |

मुकाबला अब खुले आकाश के नीचे आ गया था | तांत्रिक और उसके दो शिष्यों ने आग जलाना शुरू किया और उन उठती हुई आग की लपटों को घूरने लगे | लेकिन सनल ख़ुशी की मुद्रा में खड़े थे | तांत्रिक ने अंतिम चेतावनी दी कि अगर एक बार काला जादू लागू हो गया तो किसी भी तरह से वापस नहीं होगा | दो मिनट के भीतर सनल पागल हो जायेंगे और एक मिनट बाद वह दर्द से तड़प कर मर जायेंगे | इससे पहले कि देर हो जाये ,अगर वह अपने जीवन को बचाने चाहते हैं तो बचा लें | सनल मुस्कराए और इसके साथ ही उलटी गिनती शुरू हो गयी |

तांत्रिक ने अजीब शब्दों और ध्वनियों के साथ मन्त्र पढ़ना शुरू किया "ओमlingalingalingalinga,ili ..." धीरे धीरे मन्त्र को पढ़ने की गति पागलों की तरह तेज़ होती गयी | वह जादू सामग्री को तेज़ी से आग में डालने लगा और देखते ही देखते तीखी आवाज के साथ लपटों का रंग बदलने लगा और चारों तरफ सफेद धुंआ फ़ैल गया | जप करते हुए तांत्रिक सनल के करीब आया और उसके सामने अपना हाथ ले जा कर छूने लगा , लेकिन एंकर ने उसे वापस बुलाया | तांत्रिक गुप्त रूप से उनके ऊपर बल प्रयोग करना चाहता था | इसके पहले भी सनल ने उसे न छूने कि चेतावनी दी थी, लेकिन तांत्रिक इस नियम को भूल कर उन्हें बार बार छूने का प्रयास करता रहा |

अब हताश तांत्रिक ने सनल का नाम कागज के एक पत्रक पर लिखा और उसे छोटे- छोटे टुकड़ों में फाड़, उन्हें उबलते तेल के बर्तन में डाल दिया और उस तेल को नाटकीय रूप से आग की लपटों में फेंकने लगा | इसके बाद भी कुछ नहीं हुआ तो उसने सनल पर पानी छिड़का, और उनके सिर पर मोर पंख को फेरने लगा | फिर सरसों के बीज को आग में फेंकने लगा | कुछ अजीबों गरीब हरकतें करने लगा | इतना सब होने के बाद भी सनल पहले की तरह मुस्कराते रहे | आधी रात होने के लिए केवल सात मिनट बचे थे | तांत्रिक ने अपने अंतिम हथियार का उपयोग करने का फैसला किया | उसने आटे के टुकड़े को मसल कर चूरा बना दिया और रहस्यमय सामग्री के साथ मिला कर सनल को इसे छूने कहा | सनल ने वैसा ही किया, और काले जादू का अंतिम भाग शुरू हुआ | तांत्रिक ने अपने नाखून से आटे को रौंदा और जंगली की तरह आटे को काट काट कर आग में फेंक दिया | इस क्षण सनल का मनोबल जरा भी नहीं डिगा और वो उसी तरह मुस्कराते रहे | ४० सेकेण्ड बचे थे ,एंकर ने उलटी गिनती गिनना शुरू की २०,१०,५,और समाप्त |

लाखों लोग जो साँस रोके टीवी के सामने ये कार्यक्रम देख रहे थे, उन्होंने राहत की सांस ली | सनल पूरी तरह सुरक्षित थे | काला जादू का प्रभाव पूरी तरह विफल रहा | सनल ने लोंगो को बताया की तांत्रिक ,लोंगो के सामने एक भय का वातावरण बना देते हें, और जो व्यक्ति काला जादू पर विश्वास नहीं करते हैं वो भी इस वातावरण से भयभीत हो कर इस को स्वीकार करने लगते हैं | इस भय को सहन करने के लिए अत्यधिक साहस और आत्मविश्वास की जरूरत होती है | सनल ने अपने जीवन को खतरे में डाल कर इस चुनौती को स्वीकार किया | उन्होंने ऐसा करके अपनी जीत से उस काले जादू के डर को दूर भगा दिया | इस रात भारत में व्याप्त एक बड़े अंधविश्वास को गंभीर झटके का सामना करना पड़ा |m

हिंदी अनुवादक - दीपाली सिन्हा