BOLETÍN RATIONALIST INTERNATIONAL

http://www.rationalistinternational.net

यीशु की मूर्ति से टपकता पानी एक चमत्कार

यीशु की मूर्ति से टपकता पानी एक चमत्कार " सनल इडामारूकू ने मुंबई में इस सच को उजागर किया जिससे नाराज हो कर चर्च नेताओं ने धमकी दी |चर्च के लोंगों ने सनल को परेशान करने के मकसद से उनके खिलाफ मुंबई के कई पुलिस स्टेशन पर मामला दर्ज कराया |
“ये कोई नई बात नहीं है जब किसी केथोलिक बिशप के पास कोई तर्क न होने पर उसने अपने प्रतिद्वंदी को धर्म  के नाम पर मौत की सजा सुना दी गयी हो | गियार्देनो  ब्रुनो इसका एक उदहारण है | वो मेरे साथ कोशिश कर सकते हैं पर मुझे मेरे तर्कों ,वैज्ञानिक और ऐतिहासिक तथ्यों के साथ खड़े होने को रोक नहीं सकते हैं | में अकेला नहीं हूँ | अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला है और हम इसे बचाने के लिए जा रहे हैं! “
-सनल इडामारूकू

चमत्कार का सच

१० मार्च को सनल इडामारूकू ने मुंबई के लिए उडान भरी | मुंबई के चर्च में हो रहे चमत्कार की चर्चा के लिए टीवी -९ ने उन्हें आमंत्रित किया | सनल अपनी टीवी टीम के साथ विले पार्ले के इर्ला में स्थित चर्च में निरीक्षण के लिए पहुंचे | चर्च में लेडी ऑफ़ वेलान्कन्नी के सामने सूली पर यीशु की मूर्ति लोंगों के बीच एक आकर्षण का केंद्र बना हुआ था | लोग दूर-दूर से यहाँ आ रहे थे | इस चमत्कार की खबर जंगल में आग की तरह फ़ैल गयी थी | कुछ दिनों से यीशु की मूर्ति के पैर से पानी की बूंद गिर रही थी | हजारों लोग वहां आते थे ,प्रार्थना करते थे और उस पवित्र पानी को इकठ्ठा करके ले जाते थे | इस समय इर्ला भक्तों का केंद्र बिंदु बना हुआ था | सनल इडामारूकू ने घटना स्थल का निरीक्षण कर वहाँ की पोल खोली | उन्होंने पानी आने का स्रोत ( नाली ) पता किया और इस प्रक्रिया को समझाया कि यह पानी किस तरह सूक्ष्म नलिका प्रभाव ( कैपिलरी एक्शन ) से उनके पैरों से गिर रहा है | जो लोकल नेता थे उस निरीक्षण के दौरान वहां मौजूद थे पर इन सब से असंतुष्ट थे |

टीवी पर बहस बिशप के साथ..

कुछ समय बाद सनल ने टीवी-९ के सामने अपने सारे सबूतों तथ्यों को पेश किया और केथोलिक चर्च पर आरोप लगाया की वो पर्चे बाँट कर इस चमत्कार का ढिढोरा पीट रही है |  इसके बाद पांच चर्च नेताओं और सनल के बीच बहस शुरू हुई | उनमे से  एगस्तीन पेलेट  ( प्रीस्ट ऑफ़ अवर लेडी ऑफ़ वेलान्कन्नी चर्च ) और एसोसिएशन ऑफ़ कंसर्न्ड कैथोलिक के प्रतिनिधियों ने मांग रखी , कि सनल सबसे माफ़ी मांगे |पर सनल ने हिम्मत से उनसे बहस की |  चर्च के बिशप एगनोलो ग्रेसिअस ने फ़ोन से इस बहस में हस्तक्षेप कर चर्च की छवि को पुनः सुधारने की कोशिश की | उन्होंने बताया की चर्च में इस तरह की अलोकिक घटनाएँ पहले भी होती रही हैं और इसके लिए वैज्ञानिक तर्क ढूढने की कोशिश करना चाहिए | उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि पोप का विज्ञान से एक अच्छा नाता है | सनल बहुत ही सौम्यता से जबाब दे रहे थे | उन्होंने गिओरदानो ब्रुनो का भी उदहारण दिया | उन्होंने यह भी बताया की इस तरह के चमत्कार को वेटिकन आयोग से स्वीकृति मिलती है और प्रमाणित किया जाता है | ये चमत्कार सभी संत को करना अनिवार्य होता है | आज पूरे विश्व में करीब १०,००० से अधिक संत है , जिन्हें इस 'चमत्कार व्यापार 'के लिए प्रमाणित किया गया  है | विज्ञान से नाता रखने वाले पोप वेटिकेन में झाड़- फूंक के आदेश देते हैं | हाल ही के प्रेस रिपोर्टों के अनुसार,पोप ने व्यक्तिगत रूप से एक स्विस गार्ड के अंदर बैठे शैतान को झाड़- फूक कर बाहर निकला था | इस दिलचस्प बहस में सनल सभी तर्कों के जबाब देने में सफल रहे| पूरे कार्यक्रम को टीवी पर रिकार्ड किया गया | इसका  संक्षिप्त विवरण आप यूट्यूब पर देख सकते हैं |
Sanal Edamaruku vs. Agnelo Gracias, Catholic Bishop of Mumbai

टीवी पर धमकी ...

जब वो सनल से माफ़ी मंगवाने में असफल रहे और सनल ने उनके सामने घुटने नहीं टेके तो उनकी सारी आशाओं पर पानी फिर गया| इस पर उन्होंने सार्वजानिक रूप से सनल के खिलाफ मामला दर्ज करने की धमकी दी | सनल ने सबको समझाते हुए बताया की उन्होंने जो भी  बोला है , उसके सारे साबुत उनके पास हैं ,जो वो कोर्ट में पेश करेंगे और एक दिन बिशप को इस कटघरे में खड़ा कर देंगे | क्रोधित हो कर चर्च के लोंगों ने सनल को परेशान करने के मकसद से उनके खिलाफ मुंबई के कई पुलिस स्टेशन पर मामला दर्ज कराया |

सनल किसी भी क्षण  गिरफ्तार हो सकते हैं

अभी तक की जानकारी के अनुसार  भारतीय दंड संहिता की धारा २९५ के आधार पर सनल के खिलाफ तीन शिकायतें  दायर की गयी हैं | इस बीच, मुंबई पुलिस ने घोषणा की, कि वे सनल को  गिरफ्तार करने निकल चुके हैं | सनल किसी भी क्षण  गिरफ्तार हो सकते हैं | किसी भी जगह जहाँ उनके खिलाफ याचिका दायर हुई है , उन्हें जबाब देने के लिए मजबूर किया जा सकता है,ऐसा न करने पर या उत्तर से संतुष्ट न होने पर उन्हें गिरफ्तार भी किया जा सकता है | उन्होंने विभिन्न स्थानों में चल रहे आपराधिक मामलों  से लड़ने के लिए मजबूर किया जा सकता है | ये सब समय और पैसे के लिए नहीं किया गया है | कुछ कैथोलिक विश्वासियों की कट्टरता को देखते हुए उनके जीवन को खतरा हो सकता है |

सनल इडामारूकू रक्षा समिति ..

तर्कवादी अंतर्राष्ट्रीय रेशनलिस्ट इंटरनेश्नल ने एक सनल इडामारूकू रक्षा समिति का गठन किया है | इस के संयोजक प्रसिद्ध मानवाधिकार वकील और कार्यकर्ता श्री एन.डी.पंचोली है |

अनुवादक-दीपाली सिन्हा